सामग्री पर जाएं
Advertisements

आया त्यौहार राखी का

राखी बान्धती प्यारी बहना

राखी बान्धती प्यारी बहना

रक्षाबन्धन होली, दीवाली और दशहरे की तरह हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है। यह भाई-बहन को स्नेह की डोर से बांधने वाला त्योहार है। यह त्योहार भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक है। रक्षाबंधन का अर्थ है (रक्षा+बंधन) अर्थात किसी को अपनी रक्षा के लिए बांध लेना। इसीलिए राखी बांधते समय बहन कहती है – ‘भैया! मैं तुम्हारी शरण में हूँ, मेरी सब प्रकार से रक्षा करना।’ आज के दिन बहन अपने भाई के हाथ में राखी बांधती है और उन्हें मिठाई खिलाती है। फलस्वरूप भाई भी अपनी बहन को रुपये या उपहार आदि देते हैं। रक्षाबंधन स्नेह का वह अमूल्य बंधन है जिसका बदला धन तो क्या सर्वस्व देकर भी नहीं चुकाया जा सकता।

भारतीय परम्परा में विश्वास का बन्धन ही मूल है और रक्षाबन्धन इसी विश्वास का बन्धन है। यह पर्व मात्र रक्षा-सूत्र के रूप में राखी बाँधकर रक्षा का वचन ही नहीं देता वरन् प्रेम, समर्पण, निष्ठा व संकल्प के जरिए हृदयों को बाँधने का भी वचन देता है। पहले रक्षा बन्धन बहन-भाई तक ही सीमित नहीं था, अपितु आपत्ति आने पर अपनी रक्षा के लिए अथवा किसी की आयु और आरोग्य की वृद्धि के लिये किसी को भी रक्षा-सूत्र (राखी) बांधा या भेजा जाता था। भगवान कृष्ण ने गीता में कहा है कि- ‘मयि सर्वमिदं प्रोतं सूत्रे मणिगणा इव’- अर्थात ‘सूत्र’ अविच्छिन्नता का प्रतीक है, क्योंकि सूत्र (धागा) बिखरे हुए मोतियों को अपने में पिरोकर एक माला के रूप में एकाकार बनाता है। माला के सूत्र की तरह रक्षा-सूत्र (राखी) भी लोगों को जोड़ता है। गीता में ही लिखा गया है कि जब संसार में नैतिक मूल्यों में कमी आने लगती है, तब ज्योतिर्लिंगम भगवान शिव प्रजापति ब्रह्मा द्वारा धरती पर पवित्र धागे भेजते हैं, जिन्हें बहनें मंगलकामना करते हुए भाइयों को बाँधती हैं और भगवान शिव उन्हें नकारात्मक विचारों से दूर रखते हुए दुख और पीड़ा से निजात दिलाते हैं।

इस दिन भाई बहनों के घर जाते हैं। बहनें अपने भाई के आने की खुशी में अपने घरों को सजाती हैं। घरों को लीप – पोत कर दरवाज़ों पर आम तथा केले के पत्तों के बन्दनवार लगाती हैं। स्नान – ध्यान करके अगरबत्ती व धूप जलाती हैं। तरह – तरह के स्वादिष्ट भोजन बनाती हैं। जब तक भाई नहीं आते हैं तब तक खाना नहीं खातीं और अपने भाई के आने की प्रतीज्ञा में बैठी रहती हैं। भाई के आने पर बहनें थालों में फल, फूल, मिठाइयाँ, रोली, चावल तथा राखियाँ रखकर भाई का स्वागत करती हैं। रोली – चावल से भाई का तिलक करती हैं और उसके दाएँ हाथ में राखी बाँधती हैं। राखी बहन के पवित्र प्रेम और रक्षा की डोरी है। राखी की डोरी में ऐसी शक्ति है जो हर मुसीबत से भाई की रक्षा करती है। बहनें भाइयों को राखी बाँधकर परमेश्वर से दुआ माँगती हैं कि उनके भाई सदा सुरक्षित रहें। इस मायावी संसार में अच्छे कर्म करते हुए नैतिक जीवन बिताएं। भाई भी राखी बँधवाकर बहन से यह प्रतिज्ञा करते हैं कि अगर बहन पर कोई संकट या मुसीबत आए, वह उस संकट का निवारण करने में बहन की सहायता करने के लिए अपनी जान की भी बाज़ी लगा देंगे। कई भाई जो बहुत दूर रहते हैं और वह बहन के घर नहीं जा पाते, वह मनीऑर्डर के द्वारा अपनी बहनों के पास रुपये भेज देते हैं और बहनें डाक के द्वारा अपने भाई के पास राखियाँ भेज देती हैं। कई जगह बहनें ही अपने भाई के घर जाकर उन्हें राखी बाँधती हैं। भाई बहनों को मिठाई, कपड़े, नक़द रुपये तथा बहुमूल्य उपहार देते हैं। भाई-बहन का हार्दिक प्रेम और भावना ही इस त्योहार का वास्तविक महत्त्व है।

पचास और साठ के दशक में रक्षाबंधन हिन्दी फ़िल्मों का लोकप्रिय विषय बना रहा । ना सिर्फ़ ‘राखी’ नाम से बल्कि ‘रक्षाबंधन’ नाम से भी फ़िल्म बनाई गई।’राखी’ नाम से दो बार फ़िल्‍म बनी है। एक बार सन् 1949 में दूसरी बार सन् 1962 में आई फ़िल्म को ए. भीमसिंह ने बनाया था, कलाकार थे अशोक कुमार, वहीदा रहमान, प्रदीप कुमार और अमिता । इस फ़िल्म में राजेंद्र कृष्ण ने शीर्षक गीत लिखा था – ‘राखी धागों का त्योहार’ । सन 1972 में एस. एम. सागर ने फ़िल्म बनाई थी ‘राखी और हथकड़ी’ इसमें आर. डी. बर्मन का संगीत था । सन 1972 में राधाकांत शर्मा ने फ़िल्म बनाई ‘राखी और राइफल’। दारा सिंह के अभिनय वाली यह एक मसाला फ़िल्म थी।सन 1976 में ‘रक्षाबंधन’ नाम से फ़िल्म बनी। इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे सचिन और सारिका।

रक्षाबंधन का पर्व प्रत्येक भारतीय घर में उल्लासपूर्ण वातावरण से प्रारम्भ होता है। राखी, पर्व के दिन या एक दिन पूर्व ख़रीदी जाती है। पारम्परिक भोजन व व्यंजन प्रातः ही बनाए जाते हैं। प्रातः शीघ्र उठकर बहनें स्नान के पश्चात भाइयों को तिलक लगाती हैं तथा उसकी दाहिने कलाई पर राखी बाँधती हैं। इसके पश्चात भाइयों को कुछ मीठा खिलाया जाता है। भाई अपनी बहन को भेंट देता है। बहन अपने भाइयों को राखी बाँधते समय सौ – सौ मनौतियाँ मनाती हैं।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: