सामग्री पर जाएं
Advertisements

रेप पर नताओं के बिगड़े बोल-क्या ऐसे होगा महिला उत्थान

रेप रोकने मे नाकाम कानून

रेप रोकने मे नाकाम कानून

भारत में एक के बाद एक रेप के मामले सामने आ रहे है। निर्भया रेप केस हो या बदायु रेप कांड, महिला के साथ होती बर्बरता ने इंसानियत को शर्मशार कर दिया है। चारों ओर फैली लाचारी के बीच उम्मीदों को पूरी तरह तार-तार कर देते है नेताओं के बिगड़े बोल।

मुलायम सिंह यादव के दिमाग में लोकसभा चुनाव के दौरान ना जाने क्या सियासी तिगड़म चल रही थी कि रेप पर ऐसा बयान दिया जिस पर सियासत के गलियारों में तूफान आ गया। उनके अनुसार रेप लड़को से गलती से हो जाते है। वैसे तो जनता ने चुनाव में जनता ने नेताजी को उनके बयान के लिए उन्हें सजा भी दे दी लेकिन लाचारी तो देखिए अब इन्हीं जनाब की पार्टी की सरकार को उत्तर प्रदेश की जनता को तीन साल और झेलना पड़ेगा। दे दना दन हो रही रेप की घटनाओं पर बस अफसोस जताया जा सकता है इंसाफ तो अंधर नगरी मे शायद ही मिले।

बदायु रेप कांड पर सख्ती की जगह बचाव की मुद्रा ने उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार ने खूब फजीयत करायी। मोदी की जीत के बाद पहला मुद्दा सियासी महारथियों के हाथ आया तो हर कोई इसे भुनाने में जुट गया। मुख्यमंत्री जी ने कानून व्यवस्था के सवाल पर पत्रकार से कह दिया कि आप तो सुरक्षित है ना फिर क्यों टेंशन ले रहे हो, जाओ और इस बात का प्रचार करो। लेकिन जैसे ही मीडिया ने मामले को तूल दिया वैसे ही सीएम साहब पटरी पर आ गये। सीबीआई जाँच के साथ एसएसपी की बर्खास्तगी और पूरे प्रदेश मे तमाम आईएएस और आईपीएस अफसरो का तबादला। ये सब करके अखिलेश बाबू ने अपनी संवेदनशीलता दिखाने की कोशिश की लेकिन देर से आयी इस प्रतिक्रिया को मीडिया ने तरजीह ही नहीं दी।

नये नवेली केन्द्र मे बनी भाजपा सरकार के लिए आफत तब आयी जब मध्य प्रदेश सरकार के उन्ही के मंत्री ने विवादित बयान दिया। एमपी के गृहमंत्री बाबूलाल गौड़ के अनुसार कोई बताकर तो रेप करने नहीं जाता है,जो हम उसे पकड़ लें। अगर कोई बताकर रेप करने जाता तो हम उसे पकड़ लेते। कार्रवाई रिपोर्ट दर्ज होने के बाद ही की जा सकती है। अगर कोई घर में आत्महत्या कर लें तो हम क्या कर सकते हैं? बलात्कार एक सामाजिक बुराई है।

बाबूलाल गौड़ का ये बयान इसलिए भी ज्यादा तूल पकड़ गया क्योंकि मध्य प्रदेश मे ही सबसे ज्यादा बलात्कार के मामले दर्ज किये गये है। मंत्री जी पहले भी अपनी जीभ से महिलाओं पर तीर चला चुके है। 19 जनवरी 2014 को गौर ने बयान दिया था कि चेन्नई में महिलाओं के खिलाफ यौन अपराधों की सबसे कम घटनाएं होती है क्योंकि वहां महिलाएं पूरे कपड़े पहनती है और हमेशा मंदिर जाती हैं।

भाजपा ने ना तब कोई कार्रवाही की थी ना अब उसने अपनी चुप्पी तोड़ी है। और इस पर भाजपा शासित छत्तीसगढ़ के नेता ने भी अपने कड़वे बोल से नेताओं की मानसिकता को बेपर्दा कर दिया। उनके मुताबिक, रेप धोखे से हो जाता है, कोई जानबूझ कर नहीं करता है। भाजपा जो अच्छे दिन लाने की बातें कर रही है वो इन दोनों नेताओ के बिगड़े बोल पर चुप ही रही। पीएम मोदी जो हमेशा अपनी प्रतिक्रिया साझा करते है इस मुद्दे पर उन्होनें भी मौन साध लिया।

ऐसे ही बयान तमाम नेताओं की जीभ पर चढ़े रहते है। अब ताजा बयान आया है महाराष्ट्र के गृहमंत्री आरआर पाटिल का। विधानसभा मे बोलते हुए मंत्री महोदय की जीभ ऐसी फिसली कि वो कह बैठे कि देश में बलात्कार की घटनाओं को रोकना संभव नहीं है। अगर हर घर के बाहर एक पुलिसकर्मी तैनात कर दिया जाए, तब भी बलात्कार की घटनाएं नहीं रुकेंगी। महिलाओं को मात्र सुरक्षा दे देने से बलात्कार की घटनाएं नहीं रूकेंगी, इसके लिए सोच में बदलाव की जरूरत है।

अब आप ही अनुमान लगा सकते है कि जब मुख्यमंत्री, मत्री और यहाँ तक कि सीनीयर नेता ऐसा रूख अख्तियार करेंगे तो अपराधियों के हौसले तो बुलंद होंगे ही होंगे। सियासत के चलते खुद के दामन को बचाने के लिए कुछ ऐसा करते है तो कुछ समाज में पनप रही महिला-विरोधी सोच के शिकार है।

जब जब नेताओं के ऐसे विवादित बयान आते है तब तब कुछ नेता विरोध करते है। महिला आयोग और महिला संगठन इस बात का संज्ञान लेते है। हो-हल्ला होता है और कुछ दिन बाद ना वो नेता किसी को याद रहता ना हि किसी को वो विवादित बयान।

नेताओं को अपने बयानो में महिलाओं की हिम्मत बढ़ानी चाहिए। महिला संगठनों को और अधिक सक्रिय होना पड़ेगा। इनकी आवाज से महिला सुरक्षा पर नेताओं की गम्भीरता पर प्रभाव पड़ सकता है।

समाज को कब तक हम कोसते रहेंगे जब तक कानून का डर अपराधियों को नहीं होगा तब तक बलात्कार होते रहेंगे और बेखौफ बदमाश महिलाओं को नोंचते रहेंगे। समाज के साथ-साथ नेताओं और कानून को सुधरना होगा। पुलिस से लेकर न्यायलय सभी को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। तभी तो आयेंगे महिलाओं के अच्छे दिन।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: