सामग्री पर जाएं
Advertisements

Alibag Beach- कुदरत का करिश्मा देखा क्या ?

Beach तो आपने कई देखे होंगे लेकिन अलीबाग बीच बहुत अलग है। मुंबई से करीब 200 किलोमीटर दूर अलीबाग शहर का बीच बहुत ही मजेदार है। बारीश के समय अगर आप अलीबाग में हैं तो आपको एक करिश्मा देखने को मिल सकता है।

पानी से लबालब ऊंची-ऊंची लहरों से पहले आप खुश हो जाएंगे। लेकिन इन लहरों के बीच आपका मन खुश होने कि बजाए एक उलझन में फंस जाएगा कि वो सामना क्या दिख रहा है। बीच के बिल्कुल सामने शिवाजी का कोलाबा किला है। ये किला समंदर के बीचोंबीच है। लेकिन बड़ा सवाल ये बनता है कि वहां तक पहुंच कैसे सकते हैं क्योंकि बीच ना तो नाव दिखेंगी ना ही कोई फेरी का इंतजाम वहां किया गया है।

दिन के 12 बजे तक ऊंची लहरें उठती रहती हैं और इसके बीच वहां मौजूद लोग धीरे-धीरे वहां से जाते रहते हैं लेकिन किले तक पहुंचने वाले वहां रूके रहते हैं।

जब मैं वहां गया था तब भी कुछ ऐसा ही था। लेकिन आस-पास मौजूद चाट-पकोड़े वालों से ये जानने को मिला कि कुछ देर रूकने के बाद दो या तीन बजे के बीच सारा पानी उतर जाएगा और किले तक घोड़ा-गाड़ी जाती हैं। ये बात चौंकाने वाली थी हम यकिन नहीं हुआ और लगा कि ऐसा हो ही नहीं सकता। इतनी ऊंची लहरें और पानी से लबालब भरा बीच एक दम से खाली हो जाएगा ऐसा हो ही नहीं सकता।

IMG_20170723_180903195

Hansom on alibag beach | अलीबाग बीच पर घोड़ा गाड़ी

लेकिन कहते हैं ना इंतजार का फल मिठा होता है तो हमारे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। मुंबई से सुबह निकले और अलीबाग पहुंचकर बीच पर पहुंच कर लगा क्या सिर्फ यही देखने आए थे। दोपहर के 2-3 बजे के करीब पानी उतरना शुरू हुआ। पानी जैसे ही बीच को छोड़कर उतर रहा था वहां पर घो़ड़ा-गाड़ी वाले भी इकट्ठा होने लगे। धीरे-धीरे पानी आधे तक पहुंचा और फिर पूरा समंदर ही किले के पीछे चला गया। यहां से शुरू हुआ रोमांच का सफर, घोड़ा-गाड़ी में बैठकर किले तक जाना वो भी समंदर के बीचोंबीच, एक ऐसा अनुभव होता है जैसे कुदरत ने कोई करिश्मा आपकी अलीबाग विसिट को शानदार बनाने के लिए किया हो।

IMG_20170723_161855096

Side view of Colaba Fort in Alibag | अलीबाग के कोलाबा किला का शानदार नजारा

हमने किले तक पहुंचने के लिए घोड़ा गाड़ी को छोड़कर पैदल चलने का फैसला किया। पानी उतर जाने के बाद बीच पर चलने का भी अलग मजा था। किले का एक हिस्सा अलग सा दिखाई देता है और पैदल चलने वाले सभी लोग पहले वहीं पहुंच रहे थे तो हम भी पीछे पीछे उसी जगह पहुंचे। किले के इस हिस्से में पहुंचकर रोमांच अलग ही स्तर पर पहुंच चुका होता है।

IMG_20170723_163617748

Alibag city from Colaba fort | कोलाबा किले से अलीबाग शहर

ये तस्वीर किले के उसी हिस्से से ली गई है यहां पहुंचे सभी लोग इतनी सेल्फी और फोटो ले लेते हैं कि मुख्य किले के लिए वो एक्साइटमेंट ही नहीं रह जाती है। यहां पर खंडहर किले का एडवेंचर बहुत जबरदस्त होता है। टूटे पड़े खंडहर किले में पत्थरों पर चढ़कर यहां पहुंचा जाता है और फिर सीढ़ियों से चढ़कर ऊपर तक जाते हैं।

फिर शुरू होता है मुख्य किले तक पहुंचने का सफर, जो समंदर के बीच पड़े पत्थरों के बीच में से होते हुए जाते हैं। एडवेंचर यहीं खतम नहीं होता है आपको लगेगा आप सीधे किले में घुस सकते हैं लेकिन आपको पहले घुम फिरकर किले के गेट तक पहुंचना पड़ता है जहां पर बीच से आने वाले घोड़ा गाड़ी सीधे उतारते हैं। खंडहर पड़े किले का बकायदा टिकट भी लगता है।

दूर से देखने में लगता है कि पहले यहां तक पहुंचा कैसे जाए लेकिन यहां पहुंचने के बाद पता चला कि किले के अंदर कुछ परिवार भी रहते हैं। किले में दो मंदिर भी हैं, एक मंदिर है जो किले का हिस्सा है और दूसरा यहां रहने वाले लोगों ने बनाया है।

IMG_20170723_171521866

Colaba fort with temple and a lobby | कोलाबा किले के अंदर मंदिर और किले का प्रांगण

इस तस्वीर में किले का मंदिर देखा जा सकता है और साथ ही किले की गली जहां से होकर किले की चारों ओर फैली दिवारों के रास्ते तक पहुंचा जाता है। मंदिर में दर्शन करने के बाद हम भी वहीं गए और दिवारों से होते हुए एक जगह पहुंचे जहां किले की तोप सुरक्षा में तैनात थी।

IMG_20170723_175259319

यहां पर किले का कारवां खत्म सा हो जाता है लेकिन अलीबाग बीच का सफर जारी रहता है यहां से फिर से किले के गेट पर पहुंचते है यहां पर खड़े घोड़ा गाड़ी आपका इंतजार कर रहे होते हैं। यहां से हम भी घोड़ा गाड़ी का सफर करते हुए अलीबाग बीच पर पहुंचे।

IMG_20170723_180712533

यहां पर आप घुड़सवारी का भी मजा ले सकते है जो आपके रोमांच को एक नया मुकाम देती है। घुड़सवारी में आपको बीच पर एक तरफ आधा किलोमीटर तक ले जाते हैं और फिर वापस आ जाते हैं।

IMG_20170723_181859331

यहां से अलीबाग यात्रा का पैकअप हो जाता है लेकिन आपकी मुंबई यात्रा और अलीबाग दर्शन कामयाब बन जाते हैं।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: