सामग्री पर जाएं
Advertisements

आधार बनवाना हुआ मुश्किल, दर दर भटक रही आम जनता

गली मोहल्लों में बन जाने वाला आधार अब बहुत मेहनत और दिन भर खपाने के बाद बन पा रहा है। आधार कार्ड में हो रही धांधली के लिए UIDAI ने प्राइवेट एनरोलमेंट सेंटर यानी आधार कार्ड बनवाने वाले सभी केंद्र बंद कर दिए हैं।

एक तरफ ये सराहनीय कदम कहा जा सकता है लेकिन अब जिम्मेदारी सरकारी कर्मचारियों पर आ गयी है जो अपनी धीमी गति के लिए विश्व प्रसिद्ध हैं। हो ये रहा है कि सुबह जाइए बमुश्किल 20 फॉर्म बांटे जाते हैं और तो और कुछ लोग लाइन में खड़े रह जाते हैं लेकिन फॉर्म नहीं मिलता है।

यानी कि इतने फॉर्म बांटों की आराम आराम से धीरे धीरे काम किया जाए और जनता तो दूसरा बैंक या पोस्ट ऑफिस ढूंढ ही लेगी।

ये तस्वीर है गाजियाबाद के सबसे बड़े पोस्ट ऑफीस की , यहां लोग सुबह सुबह लाइन में लग जाते हैं और दिन भर वहीं रहकर अपना आधार कार्ड का फॉर्म भरवाते हैं। यानी कि पहले तो दिन भर का समय निकालो फिर सुबह उठकर जल्दी से एनरोलमेंट सेन्टर पहुंचो और फिर दिन भर की मेहनत के बाद शाम तक नंबर आता है।

इतनी भाग दौड़ की जिंदगी में काम वाले दीनों में समय निकालने का काम भी बड़ा भारी है , बिना ऑफिस से छुट्टी के ऐसा हो ही नहीं सकता।

ये तो बात हुई सरकारी बैंक और पोस्ट ऑफिस की लेकिन प्राइवेट बैंक भी अपनी कामचोरी का पूरा प्रदर्शन कर रहें हैं।

ये तस्वीर है गाज़ियाबाद शहर के एक मात्र प्राइवेट बैंक की जिसके पास आधार एनरोलमेंट की जिम्मेदारी है, यहां तस्वीर में दो काउंटर हैं जो बैंक कर्मचारी तस्वीर में दिख रहा है UIDAI की वेबसाइट पर इसी व्यक्ति का नाम आधार एनरोलमेंट के लिए दिया गया गया लेकिन बैंक ने जनाब को ग्राहकों की शिकायत सुनने के लिए बिठा रखा है। बैंक के मैनेजर ने कहा कि मशीन ठीक नहीं है इसलिए बैंक आधार नहीं बनाया जाएगा।

इसके अलावा भी कुछ इक्का दुक्का सरकारी सेन्टर आधार कार्ड की ऑफिसियल वेबसाइट http://www.uidai.gov.in पर हैं लेकिन सब जगह एक जैसा ही हाल है।

इस सबके बीच कुछ प्राइवेट एनरोलमेंट सेन्टर अभी भी एक्टिव हैं लेकिन इन सेन्टर पर बिना पैसे के काम नहीं होता है। फॉर्म के 100 रुपये और फिर कार्ड के 100 रुपये देने पड़ते हैं। यानी जो काम फ्री में हो रहा था और अभी भी http://www.uidai.gov.in वेबसाइट पर दिखाए जा रहे सेंटर पर हो रहा है वो इन सेंटर पर 200 रुपये में किया जा रहा है।

हाल के दिनों में आधार कार्ड बनाने के लिए लोगों में खलबली मची हुई थी क्योंकि 31 मार्च तक आधार कार्ड को बैंक खाते, मोबाइल नंबर जैसे कई सेवाओं से जोड़ने की समयसीमा थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल जनता को राहत देते हुए उसे अनिश्चितकाल के लिए बढ़ा दिया है। फिर भी आधार बनवाने के लिए जनता तो चक्कर काट ही रही है।

Advertisements

1 टिप्पणी »

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: