सामग्री पर जाएं
Advertisements

कॉमनवेल्थ गेम्स भारत के लिए नहीं था ‘कॉमन’- क्रिकेट के बाद बाकी खेलों में भी तैयार हो रहे सितारें

भारत में क्रिकेट एक जुनून है लेकिन बाकी खेल भी अब अपनी पहचान बना रहे हैं। गोल्ड कोस्ट में भारतीय दल भले ही दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स के गोल्ड मेडल का रिकॉर्ड नहीं तोड़ पाया हो लेकिन इस बार सभी खेलों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। 2010 में भारत ने 38 गोल्ड मेडल जीते थे जो कि 2014 में ग्लास्गो में हुए आयोजन में घटकर आधे से भी कम 15 गोल्ड मेडल पर आ गया था। हालांकि दिल्ली में दर्शकों का साथ भी था लेकिन इस बार आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में भारतीय दल कड़ी मेहनत के बाद फिर से 26 गोल्ड मेडल जीतने में कामयाब रहा।

2010 में भारत ने सबसे ज्यादा 14 गोल्ड मेडल शूटिंग में जीते थे हालांकि इस बार भी सबसे गोल्ड मेडल शूटिंग से ही आए लेकिन उनकी संख्या घटकर आधी यानी 7 गोल्ड मेडल हो गई है। दिल्ली में शूटर गगन नारंग ने रिकॉर्ड 5 गोल्ड अकेले जीते थे लेकिन इस बार वो एक भी गोल्ड तो छोड़ो कोई भी मेडल नहीं जीत पाए।

कहां-कहां भारतीय खिलाड़ियों ने किया कमाल-

IMG_20180407_182054.jpg

  • वेटलिफ्टंग मेे भारत ने पहली बार रिकॉर्ड 5 गोल्ड मेडल जीते हैं। दिल्ली में भारत को वेटलिफ्टिंग में सिर्फ 2 गोल्ड मिले थे।भारत की ओर से वर्ल्ड चैंपियन मीराबाई चानू, संजीता चानू, सतीश कुमार शिवलिंगम, वेंकट राहुल रागला और पुनम यादव ने गोल्ड मेडल जीते।
  • शूटिंग जिससे सबसे ज्यादा मेडल भारत के लिये आते हैं वैसा हुआ भी 7 गोल्ड भारत ने इस इवेंट में जीते। हालांकि स्टार शूटर फीके रह गए और उनकी जगह दूसरे लोगों ने ली। अनीश भानवाला ने 15 साल की उम्र में कॉमनवेल्थ गेम्स का गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। तो स्टार शूटर जीतू राय एक गोल्ड जीतने में कामयाब रहे। वहीं युवा शूटर मनु भाकर भी गोल्ड जीतने में कामयाब रहीं। एक और स्टार शूटर हिना संधू ने भी गोल्ड मेडल जीता। महिलाओं का शूटिंग में दबदबा रहा। तेजस्विनी सावंत, श्रेयसी सिंह ने भी गोल्ड मेडल पर निशाना लगाया। तो संजीव राजपूत भारत के लिए शूटिंग का आखिरी गोल्ड मेडल लेकर आए।
  • कुश्ती में भारत ने 5 गोल्ड मेडल जीते भले ही ये मेडल दिल्ली में जीते 10 मेडल से कम रहे हों लेकिन भारत की ओर से गए सभी 12 पहलवान मेडल जीतने में कामयाब रहे। भारत की ओर से स्टार रेसलर सुशील कुमार, स्टार रेसल वीनेश फोगट गोल्ड मेडल जीतने में कामयाब रहे। वहीं सुमित मलिक, राहुल अवारे और बजरंग पुनिया ने भी गोल्ड मेडल जीता। 3 पहलवान सिल्वर तो 4 ब्रांज जीतने में कामयाब रहे।

manika

  • टेबल टेनिस भी भारत के लिए ऐतिहासिक रहा। पहली भारत ने पुरूष और महिला टीम इवेंट दोनों में गोल्ड मेडल जीता। तो वहीं सिंगल्स में भारत की मनिका बत्रा भारत के लिए पहला कॉमनवेल्थ गोल्ड मेडल जीतने में कामयाब रहीं। महिला टीम इवेंट में भारत ने पहली बार गोल्ड जीता है। मेन्स डबल्स में शरत अचंता कमल और सातियां गणशेखरन को सिल्वर मेडल मिला तो वुमेंस डबल्स में मनिका बत्रा और मौमा दास को भी सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। शरत कमल को मेन्स सिंगल्स में ब्रांज मिला तो मनिका बत्रा और सातियां गणशेखरन को मिक्स डबल्स में ब्रांज, वहीं मेन्स डबल्स में सिल्वर के साथ भारत की ओर से हरमीत देसाई और सनील शंकर ने ब्रांज मेडल जीता।

sindhu saina

  • बैडमिंटन में भी भारत के लिए ऐतिहासिक उपलब्धियां रहीं। जहां भारत ने मिक्स टीम इवेंट में भारत के स्टार शटलर सायना नेहवाल, किदांबी श्रीकांत और अश्वनी पोनप्पा के शानदार प्रदर्शन के चलते पहली बार कॉमनवेल्थ गेम्स का गोल्ड मेडल जीता है। वहीं वुमेल सिंगल्स भी भारत के लिए ऐतिहासिक था जहां फाइनल में भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधू और सायना नेहवाल आमने सामने थीं लेकिन सायना नेहवाल ने ओलंपिक सिल्वर मेडलिस्ट पीवी सिंधू को सीधे सेटों में हरा दिया। कॉमनवेल्थ के दौरान किदांबी श्रीकांत को ऐतिहासिक सफलता वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर वन बनने से मिली लेकिन कॉमनवेल्थ गेम्स में वो गोल्ड मेडल से चूक गए। फाइनल में हार के बाद उन्हें सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। मेन्स डबल्स में भारत को चिराग शेट्टी और सातविक रानिकरेड्डी ने सिल्वर मेडल दिलवाया तो मिक्स डबल्स में भारत को एन सिक्की रेड्डी और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी ने ब्रांज दिलाया।

DawBdPBWsAAAxqj

  • बॉक्सिंग भी भारत के लिए काफी सफल इवेंट रहा। पहली बार वुमेंस बॉक्सिंग को शामिल किया गया तो पांच बार की वर्ल्ड चैंपियन रही दिग्गज बॉक्सर मैरी कॉम ने भारत को पहला गोल्ड दिलाया। भारत के 6 बॉक्सर फाइनल में पहुंचे लेकिन मैरी कॉम के अलावा 2 ही गोल्ड मेडल जीत पाए। विकास कृष्णन और गौरव सोलंकी गोल्ड मेडल जीतने में सफल रहे तो वहीं सतीश कुमार, अमित पंघल और मनीष कौशिक को सिल्वर से ही संतोष करना पड़ा। स्टार बॉक्सर मनोज कुमार ब्रांज ही जीत पाए तो मोहम्मद हसमुद्दीन और नमन तंवर भी ब्रांज मेडल जीतने में कामयाब रहे।

neeraj

  • इसके अलावा एथलेटिक्स से इस बार भारत को सिर्फ एक मेडल मिला वो भी भाला फेंक में। एथलेटिक्स में भारत की ओर से नीरज चोपड़ा भारत के लिए इकलौता गोल्ड मेडल लेकर आए। वहीं चक्का फेंक में भारत को एक सिल्वर सीमा पुनिया और एक ब्रांज नवजीत कौर ढिल्लौन ने जीता।
  • स्कवॉस में भारत को 2 सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। स्टार प्लेयर दीपिका पल्लीकल की मेहनत का रंग गोल्ड नहीं हो पाया। वुमेंन्स डबल्स में डिफेंडिंग चैंपियन जोशना चिनप्पा और दीपिका पल्लीकल की जोड़ी को फाइनल में हार के बाद सिल्वर मेडल मिला तो मिक्स डबल्स में भी दीपिका पल्लीकल और सौरव घोषाल की जोड़ी फाइनल में हार के बाद सिल्वर मेडल ही जीत पाई।
  • पैरा पॉवरलिफ्टिंग में भी भारत को एक ब्रांज मेडल मिला।सचिन चौधरी ने भारत के लिए इवेंट का इकलौता मेडल जीता।

कहां भारत नहीं जीत पाया एक भी मेडल-

  1. हॉकी
  2. बॉस्केटबॉल
  3. बीच वॉलीबॉल
  4. साइकलिंग
  5. जिमनास्टिक्स
  6. स्वीमिंग
  7. रगबी
  8. डाइविंग
  9. ट्राइथलॉन
  10. नेटबॉल
  11. लॉन बॉल्स

यानि कहा जाए तो भारत ने जहां 9 इवेंट में मेडल जीते तो वहीं 11 इवेंट में एक भी मेडल नहीं जीता। अगर इन सभी इवेंट पर भी काम किया जाए तो शायद भारत की पदकों की संख्या बढ़ सकती है। भारत को मल्टी मेडल इवेंट्स पर जोर देने की जरूरत है। एथलेटिंक्स में भारत को सिर्फ एक गोल्ड मिला है जबकि ये कही ज्यादा हो सकती थी वहीं स्वीमिंग में भारत का प्रदर्शन हमेशा लगभग जीरो रहता है जबकि इसी इवेंट की वजह से आस्ट्रेलिया पदक तालिका में सबसे ऊपर है। आस्ट्रेलिया ने कुल 80 मेडल में से 16 गोल्ड मेडल स्वीमिंग में जीते।

खिलाड़ियों का सम्मान करती सरकारें-

  • हरियाणा सरकार गोल्ड जीतने वाले राज्य के सभी खिलाड़ियों को 1.5 यानि डेढ़ करोड़ रूपये का इनाम देगी। वहीं 75 लाख रूपये सिल्वर मेडल विनर और 50 लाख रूपये ब्रांज मेडल विनर को मिलेंगे।
  • महाराष्ट्र सरकार राज्य के गोल्ड जीतने वाले सभी खिलाड़ियों को 50 लाख रूपये देगी। सिल्वर मेडल विनर को 30 लाख और ब्रांज मेडलिस्ट को 20 लाख रूपये देगी।
  • आन्ध्र प्रदेश सरकार गोल्ड मेडलिस्ट को 30 लाख रूपये देगी।
  • तमिलनाडु सरकार राज्य के स्वर्ण पदक विजेताओं को 50 लाख रूपये देगी।
  • दिल्ली सरकार स्वर्ण पदक विजेताओं को 14 लाख रुपये देगी।
  • मणिपुर सरकार गोल्ड मे़डल विनर को 15 लाख रूपये देगी।

सभी फोटो- ट्वीटर (@pmoindia @Ra_THORe)

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

%d bloggers like this: