सामग्री पर जाएं
Advertisements

सुदीक्षा भाटी: भारत की बेटियों के लिए मिसाल- यूपी के गांव से अमेरिकी कॉलेज तक का सफर

भारत में प्रतिभाशाली और मेधावी छात्रों की कमी नहीं है। देश में शिक्षा व्यवस्था ऐसे बच्चों को मदद भी करती है लेकिन ऐसा हर किसी के साथ नहीं होता है। सुपर 30 के गरीब बच्चे आईआईटी जैसे टॉप कॉलेज में चले जाते हैं तो कुछ संसाधनों के अभाव में कुछ छात्र शायद वह हिम्मत नहीं जुटा पाते हैं।

Screen Shot 2018-06-20 at 10.37.22 PM

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा के एक गांव की छात्रा सुदीक्षा भाटी भी उन छात्रों में से है जो दिल्ली जैसे मेट्रो शहरों, राज्यों की राजधानियों और देश के कई औद्योगिक संपन्नता वाले शहर से नहीं हैं। प्रतिभा किसी शहर की मोहताज नहीं होती यह सुदीक्षा ने साबित करके दिखाया है।

ढाबा मालिक की बेटी सुदीक्षा मैसाचुसेट्स (अमेरिका) के Babson कॉलेज में पढ़ाई करने जाएंगी। यूपी के गांव से यूएस के कॉलेज तक का सफर सुदीक्षा ने अपनी प्रतिभा से तय की है। सुदीक्षा उन 25 छात्रों में से एक हैं जिन्हें कॉलेज की तरह से बैचलर इन एंटरप्रेनरशिप के कोर्स के लिए करीब 2 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप दी गई है।

18839066_310479642708530_7820804967348531549_n

सुदीक्षा ने बारहवीं सीबीएसई बोर्ड से की थी और वह 98% नंबरों के साथ बुलंदशहर की डिस्ट्रीक्ट टॉपर भी रहीं। सुदीक्षा का स्कूली सफर भी कठिनाइयों से भरा था और मेधावी सुदीक्षा ने हर चुनौती को आसानी से हरा भी दिया। क्लास II में निजी स्कूल में पढ़ाई करने के दौरान उन्होंने क्लास में टॉप किया था लेकिन पिता की आर्थिक स्थति खराब हो गई। करीब एक साल की फीस नहीं भरे जाने के कारण स्कूल ने उन्हें ट्रॉफी और रिपोर्ट कार्ड देेने से मना कर दिया। सुदीक्षा के पिता ने बेटी का अपने गांव के प्राइमरी स्कूल में एडमिशन करा दिया और सुदीक्षा वहां क्लास V तक पढ़ीं।

18664429_306880776401750_6283433858253205903_n

प्राइमरी स्कूल जैसे कि कक्षा पांच तक ही होता तो अब सुदीक्षा के पिता ने गांव से बाहर अच्छे स्कूल की तलाश शुरु की। सुदीक्षा ने बुलंदशहर के सरकारी स्कूल जवाहर नवोदय विद्यालय और एचसीएल के फाउंडर शिव नादर द्वारा गरीब बच्चों के लिए संचालित बोर्डिंग स्कूल विद्याज्ञान लीडरशीप अकेडमी के पेपर की तैयारी की। मेधावी छात्र सुदीक्षा का चयन विद्याज्ञान लीडरशिप अकेडमी में हुआ। फिर वह रुकी नहीं और क्लास 12 में 98% लाकर बुलंदशहर में सीबीएसई की टॉपर बनी। अब वह अमेरिका में पढ़ाई करेंगी।

15781609_239743356448826_5589328828273584708_n

सुदीक्षा को लेकर टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार ने एक स्टोरी की है। टीओआई से बात करते हुए सुदीक्षा ने कहा है कि विद्याज्ञान लीडरशिप अकेडमी ने उन्हें काफी समर्थन दिया और टीचर्स ने हमेशा पढाई में उनकी मदद की।

सुदीक्षा को यूपी के गांव से अमेरिकी कॉलेज तक पहुंचाने में उनके स्कूल विद्याज्ञान स्कूल की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण रही नहीं तो वह शायद सपने ही नहीं देख पाती उन्हें पूरा करना तो दूर की बात है।

35805468_1719539958142245_2272976527895298048_o

सुदीक्षा के मुताबिक, उन्हें स्कूल की तरफ से 2016 में अमेरिका की ही लेहिग यूनिवर्सिटी भेजा गया था। उन्होंने 2017 में अमेरिकी विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए SAT (scholastic amplitude test) और TOEFL (Test of English as a Foreign Language) की तैयारी शुरु की। बतौर सुदीक्षा, परीक्षा के लिए उन्हें स्कूल की तरफ से मदद मिली और खर्च भी स्कूल ने उठाया। आखिरकार सुदीक्षा की मेहनतर रंग लाई और अब वह अमेरिका जाएंगी।

सुदीक्षा ने टीओआई से इंटरव्यू के आखिर में कहा, “हर कोई उनसे पूछ रहा है, क्या वह वापस आएंगी? हां, मैं ज़रूर आऊंगी, क्योंकि जो भी उनके लिए ज़रूरी है वह यहां पर है।”

सुदीक्षा की कामयाबी और इकबाल फिल्म का यह गाना बहुत मेल खाता है…आप भी सुनिए

God Bless You सुदीक्षा…तुम भारत के कई प्रतिभाशाली छात्रों के लिए मिसाल हो

सभी फोटो- फेसबुक (Sudiksha Bhati) (https://www.facebook.com/profile.php?id=100012394904836) और (Yogi Gaurav Sharma) (https://www.facebook.com/banga344)

Advertisements

1 टिप्पणी »

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

%d bloggers like this: