सामग्री पर जाएं
Advertisements

टैग: कविता

जन्म लो इश्वर फिर से

द्वापर युग कृष्ण रूप में जन्मे त्रेता में तुम जन्मे बनकर राम पुनः जन्म लो इश्वर फिर से, लेकर कोई नाम धर कर कोई नाम धरती पर महाभारत सा खेल […]

जिन्दगी से मौत तक

मौत का इंतज़ार कल तलक था , ज़िदंगी अब तुझसे नाराज़ नहीं हॅू । छु कर गई जो पवन आज मुझे , कह दो इन फिज़ाओ से मैं नाराज़ नहीं […]